What is Thyroid in Hindi: थायराइड क्या है, लक्षण, इलाज

थायराइड क्या है/What is Thyroid in Hindi

थायरॉइड मूल रूप से एक ग्रंथि होती है जो गर्दन के अग्र भाग में स्वरयंत्र(Larynx) के ठीक नीचे मौजूद होती है।

शरीर में थायरॉयड ग्रंथि की भूमिका/Role of thyroid Gland in body in Hindi

थायरॉयड ग्रंथि हमारे शरीर के चयापचय(Metabolism) को विनियमित(Regulate) करने में मदद करती है। यह आमतौर पर शरीर में दो प्रमुख हार्मोन उत्पन्न(Produce) करता है और रिहा(Release) करता है जो (T4) थायरोक्सिन, और (T3) ट्राईआयोडोथायरोनिन हैं।

ये दो हार्मोन शरीर के कई आवश्यक कार्यो को नियंत्रित करता है जैसे:

  • शरीर का वजन (Bodyweight)
  • हृदय गति (Heart rate)
  • सीएनएस (केंद्रीय तंत्रिका तंत्र)
  • साँस लेना (Breathing)
  • शरीर का तापमान (Body Temperature)

थायरॉइड ग्रंथि से संबंधित स्थितियां/Conditions related to thyroid in Hindi

थायराइडाइटिस: यह वह स्थिति है जिसमें थायरॉयड ग्रंथि की सूजन होती है। यह वायरल संक्रमण या ऑटोइम्यून बीमारियों के कारण हो सकता है।

हाइपोथायरायडिज्म: यह एक ऐसी स्थिति है जब थायरॉयड ग्रंथि आवश्यक मात्रा से कम थायराइड हार्मोन का उत्पादन करती है। यह मुख्य रूप से ऑटोइम्यून बीमारी के कारण होने वाली थायरॉयड ग्रंथि की क्षति के कारण होता है।

हाइपरथायरायडिज्म: यह हाइपोथायरायडिज्म के विपरीत है। इस स्थिति में, थायरॉयड ग्रंथि आवश्यक मात्रा से अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन करती है। यह मुख्य रूप से Graves Disease के कारण होता है, एक विकार जो थायरॉयड ग्रंथि पर हमला करता है और इसे शरीर की आवश्यकता से अधिक हार्मोन का उत्पादन करने के लिए बनाता है।

गोइटर: यह थायरॉयड ग्रंथि का असामान्य इज़ाफ़ा(Enlargement) है। यह आमतौर पर दर्द रहित होता है, एक बड़ा गोइटर खांसी पैदा कर सकता है और निगलने और यहां तक ​​कि सांस लेने में कठिनाई पैदा कर सकता है।

थायराइड हार्मोन से संबंधित सबसे आम स्थिति हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म है। इसलिए दोनों स्थितियों के बारे में गहराई से जानते हैं।

हाइपोथायरायडिज्म/Hypothyroidism in Hindi

यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉयड ग्रंथि थायराइड हार्मोन की आवश्यक मात्रा का उत्पादन करने में विफल रहती है

प्रारंभिक चरण में, हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण अज्ञात(Unnoticeable) होते हैं। अनुपचारित हाइपोथायरायडिज्म बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है जैसे कि वजन बढ़ना, जोड़ों का दर्द और हृदय रोग।

इस स्थिति में सबसे पहले, आप केवल वजन बढ़ने या थकान को नोटिस कर सकते हैं।

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • थकान
  • कब्ज़
  • रूखी त्वचा
  • भार बढ़ना
  • सूजा हुआ चेहरा
  • मांसपेशी में कमज़ोरी
  • सामान्य या अनियमित मासिक धर्म (Heavy or irregular menstrual Period)
  • बालो का झड़ना
  • सुस्त दिल की दर (Slowed Heart rate)
  • डिप्रेशन

हाइपोथायरायडिज्म का उपचार/Treatment of Hypothyroidism

शरीर को अच्छी तरह से काम करने के लिए थायराइड हार्मोन की आवश्यक मात्रा की आवश्यकता होती है। इसलिए इस स्थिति के इलाज के लिए शरीर को उचित मात्रा में थायराइड हार्मोन प्रदान करना होगा।

यह भी पढ़ें:  GERD in Hindi: कारण, लक्षण, उपचार, सावधानियांं

हाइपोथायरायडिज्म का मानक उपचार लेवोथायरोक्सिन सोडियम, (एक थायरॉयड हार्मोन) का दैनिक उपयोग है। यह मौखिक दवा हार्मोन के स्तर को बहाल(Restore) करती है और हाइपोथायरायडिज्म के संकेत और लक्षणों को उलटने में मदद करती है।

नोट: किसी भी हाइपोथायरायडिज्म उपचार को शुरू करते समय हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें, क्योंकि इस दवा की खुराक व्यक्ति के साथ बदलती रहती है।

क्या हाइपोथायरायडिज्म का इलाज प्राकृतिक रूप से किया जा सकता है?

हाँ। आप हाइपोथायरायडिज्म को कुछ तरीकों से स्वाभाविक रूप से नियंत्रित कर सकते हैं जैसे:

  • कैल्शियम, प्रोबायोटिक्स, और आयोडीन जैसे पूरक(Supplements) हाइपोथायरायडिज्म के इलाज में मदद कर सकते हैं
  • दैनिक तनाव कम करें
  • पर्याप्त नींद लो
  • प्रोटीन का सेवन बढ़ाएं

हाइपरथायरायडिज्म/Hyperthyroidism in Hindi

इस स्थिति में, थायराइड ग्रंथि आवश्यक मात्रा से अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन करती है।

यह स्थिति आमतौर पर शरीर के चयापचय(Metabolism) को तेज करती है और वजन घटाने या अनियमित दिल की धड़कन का कारण बनती है।

इसमें विभिन्न प्रकार के संकेत और लक्षण शामिल हो सकते हैं जैसे:

  • वजन घटना
  • दिल की धड़कन बढ़ जाना (Tachycardia)
  • भूख में वृद्धि
  • दिल की अनियमित धड़कन
  • पसीना आना
  • त्वचा का पतला होना
  • चिंता
  • नींद की समस्या

हाइपरथायरायडिज्म का उपचार/Treatment of Hyperthyroidism

हाइपरथायरायडिज्म को स्थायी रूप से ठीक किया जा सकता है

हाइपरथायरायडिज्म का मानक उपचार एंटी-थायराइड दवाएं देकर किया जाता है। थायरॉयड हार्मोन के अतिप्रयोग को नियंत्रित करने के लिए कई एंटी-थायराइड दवाएं अलग तरह से काम करती हैं। इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर से एंटी-थायराइड दवा की खुराक के बारे में सलाह लें।

कब आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए/When you should see doctor

आप अचानक वजन घटने, तेजी से और अनियमित दिल की धड़कन, पसीना और हाइपरथायरायडिज्म से संबंधित अन्य लक्षण अनुभव कर रहे हैं। आपके द्वारा देखे गए परिवर्तनों का पूरी तरह से वर्णन करना महत्वपूर्ण है क्योंकि हाइपरथायरायडिज्म के कई संकेत और लक्षण ऐसे हैं जो कई अन्य स्थितियों से संबंधित हैं।

क्या हाइपरथायरायडिज्म स्वाभाविक रूप से ठीक हो सकता है?

आप अपने आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करके और हटा कर हाइपरथायरायडिज्म को नियंत्रित कर सकते हैं।

इन खाद्य पदार्थो का सेवन करने से बचे:

  • खाद्य और पेय पदार्थों जिनमें कैफीन होता है
  • सोया (सोयाबीन तेल, सोया सॉस, टोफू)
  • आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थ

खाद्य पदार्थ जिनका सेवन करें:

  • कम आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थ
  • आयरन युक्त खाद्य पदार्थ
  • कैल्शियम और विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ

The above article was about Thyroid in Hindi. To read in English, Click here.

Sahil Nasa (B. Pharma)
Sahil Nasa (B. Pharma)

साहिल पेशे से फार्मासिस्ट है। इन्हें किताबें पढ़ना और ब्लॉग लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *